ECG full form in hindi। ई सी जी क्या है। 2023 में जाने पूरी जानकारी।

ECG full form in hindi- नमस्कार मित्रो कैसे है आप लोग, आशा हैं आप लोग ही अच्छे होंगे, हमने अपने ब्लॉग पर कुछ महीने पहले full form से सबन्धित एक केटेगरी बनाई है, और उसपर एजुकेशन से सम्बंधित लेख पब्लिश किये जाते है।

जिससे छात्रों को एजुकेशन से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारियाँ देते है, और आज के इस लेख में हम ecg full form in hindi के बारे में आप लोगो को जानकारी देने वाले है, और इसी के साथ में ecg क्या है, ecg किस लिए किया जाता है।

तथा ecg से सम्बंधित बहुत से सवालो के बारे में विस्तार से जानेगे, इसलिए इस लेख के अंत तक बने रहिये, नही तो आप ecg से सम्बंधित बहुत सी जानकारियाँ मिस कर देंगे।

ecg-full-form-in-hindi

ECG full form in hindi। ई सी जी क्या है। ecg का फुल फॉर्म क्या है।

ecg का full फॉर्म-  Electro cardio diagram (इलेक्ट्रो कार्डियो डायग्राम) होता है, मुख्य रूप से ecg का प्रयोग दिल की किसी बिमारी को चेक करने के लिए किया जाता है, और ख़ास तौर पर इसका दिल की गतिविधियों को चेक करने के लिए किया जाता है, और एक ग्राफ़ पेपर पर उसे प्रिंट किया जाता है।

ECG kab kiya jata hai। ई सी जी कब किया जाता है।

  • सीने में दर्द।
  • सांस लेने में कठिनाई।
  • हृदय की धड़कन तेज होना।
  • थकान या कमजोरी महसूस होना।
  • हृदय से असमान्य ध्वनि सुनाई देना।
  • हार्ट अटैक।
  • ह्रदय की मंपेशियाँ असमान्य रूप से मोटा होना।
  • सीने में दर्द के कारण कोलेस्ट्रोल का जमा होना।
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति।

ECG कैसे किया जाता है।

ECG करने करने के लिए पेशेंट को एक बीएड पर लिटा दिया जाता है, और और उसके सीने पर 4 से छ वाल्व को चिपकाया जाता है, और दो वाल्व हाथ में तथा दो वाल्व पैर में चिपकाया जाता है।

इसके बाद मशीन को ऑन किया जाता है, और एक ग्राफ़ पेपर पर हार्ट की गतिविधियों को प्रिंट किया जाता है, जिसके बाद आसानी से पता लगाया जा सकता है, कि पेशेंट के हार्ट में क्या प्रॉब्लम है।

ECG क्यों किया जाता है।

आपको जानकारी दे दे कि ईसीजी आपके दिल की विद्युत गतिविधि की एक तस्वीर को रिकॉर्ड करने में सक्षम है, लेकिन यह केवल उस वक्त संभव हो सकता है, जिस वक्त आपको मानीटर किया जा रहा हो, इस प्रक्रिया के माध्यम से आपके हृदय से जुड़ी सारी बातों का पता चल जाता है।

जैसे कि अतीत में दिल का दौरा होना, छाती में दर्द के कारण, सांस लेने में तकलीफ जैसी परेशानी जिससे आप जूझ रहे हैं, तो फिर आपके स्वास्थ्य के लिए ईसीजी का करना काफी जरूरी माना जाता है।

आपको बता दें कि आपकी इस स्ट्रेस टेस्ट और दिल की गतिविधियों का पता लगाने के लिए हमें ईसीजी टेस्ट की आवश्यकता होती है। कभी-कभी यह देखा जाता है कि किसी व्यक्ति को व्यायाम के दौरान समस्याएं होती है।

जिससे कि मौत होने की भी काफी आसार होते हैं। इसी तरह की गतिविधियों से निपटने के लिए हमें ईसीजी Electro cardio diagram टेस्ट की आवश्यकता होती है। जहां आप इस जांच से यह पता लगा सकते हैं कि मनुष्य कितने तनाव में है या कितना स्वास्थ्य है।

ECG करने के क्या नुकसान है।

आपके लिए यह एक बेहद ही महत्वपूर्ण जानकारी है जहां आपको बता दें कि आमतौर पर देखा गया है, कि आमतौर पर ईसीजी कराने से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता है,लेकिन शरीर के जिन भागों में इलेक्ट्रोड लगाए जाते हैं।

उसे निकालने के बाद वहां सूजन और चकत्ते पड़ सकते हैं।आपको बता दें कि यदि आप रोजाना इलेक्ट्रोड को नहीं निकालते हैं, तो फिर हॉल्टर मॉनिटर के कारण आपकी त्वचा में जलन हो सकती है।

ECG करने के लाभ।

आज के समय में महंगाई इतनी बढ़ चुकी है, कि लोग किसी भी डॉक्टर के पास जाने से पहले कई बार सोचते है, लेकिन ecg करवाने के लिए ऐसा कुछ भी नही है, यह काफी कम खर्चे में हो जाता है।

इसके अलावा इसके कई सारे फायदे भी है, इससे काफी कम समय व कम खर्चे में आपके ह्रदय के सभी रोगों की जांच हो जाती है, जिससे समय रहते है, ही उसका इलाज किया जा सकते है, इसे करने से पहले या करने के बाद किसी भी प्रकार का कोई परहेज नही करना होता है।

इनके बारे में भी पढ़े-

ECG से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न-

  • ई सी जी क्या होती है?

    Ans- (ECG) Electro cardio diagram एक ग्राफ है, जो ह्रदय को इलेक्ट्रिकल गतिविधियों को दिखाता है।

  • ECG से हमें क्या पता चलता है?

    Ans- ECG से हमें इलेक्ट्रिकल गतिविधियों का पता चलता है, जो की एक ग्राफ में बनाई जाती है, इससे हमें ह्रदय की रेट व रिद्म का पता चलता है।

  • ECG टेस्ट कैसे किया जाता है?

    Ans- ECG टेस्ट के लिए पेशेंट के कपडे को उतरवाकर एक बेड पर लिटाया जाता है, और अलग-अलग इलेक्ट्रोस उसके छाती, टांग व बाजू पर लगाये जाते है, और ग्राफ़ तैयार किया जाता है।

  • क्या ई सी जी टेस्ट में दर्द होता है?

    Ans- नही इस टेस्ट में किसी भी प्रकार को कोई दर्द नही होता है।

  • ई सी जी टेस्ट के लिए डॉक्टर कब कहते है?

    Ans- यदि आपको कोई दिल की बिमारी है, जैसे- हार्ट अटैक, अर्दिमिया तो आपको डॉक्टर ई सी जी करवाने के लिए कह सकते है, और इसके अलावा किसी भी बड़ी सर्जरी को करने से पहले भी डॉक्टर के द्वारा ECG करने की सलाह दी जाती है।

निष्कर्ष- आज हमने क्या सिखा

आज के इस लेख में हमने ECG full form in hindi, ई सी जी क्या है, ECG क्यों किया जाता है, इसके क्या लाभ है, इन सभी सवालो के जवाब विस्तार से जाने है।

यदि आपको इस आर्टिकल से कुछ नया सिखने को मिला है, तो इसे अपने दोस्तों व सोशल मिडिया अकाउंट पर अवश्य शेयर करे।

तथा अन्य किसी भी जानकारी के लिए निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करे, तथा ऐसी ही जानकारी की सूचना पाने के लिए हमारे ब्लॉग को बुकमार्क करना ना भूले धन्यवाद।

4.4/5 - (121 votes)

Share this content

Pawan Yadav

मेरा नाम पवन है, मै visiontechindia.com वेबसाइट का फाउन्डर हूँ, मेरे द्वारा बनायीं गयी यह एक ऐसी हिंदी वेबसाइट है, जहाँ पर बिज़नेस आईडिया, टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, GK और ऑनलाइन पैसे कमाने से सम्बंधित जानकारी शेयर की जाती हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!