ITI full form in hindi 2023 । आईटीआई का फुल फॉर्म क्या है।

ITI full form in hindi- नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है, पवन और आज मै All hindi tips by pawan ब्लॉग के माध्यम से आप लोगो को ITI full form in hindi आईटीआई का फुल फॉर्म क्या है।

इन सभी से सम्बंधित कई प्रकार के सवालों के बारे में चर्चा करेंगे, इसके लिए आप मेरे इस लेख को ध्यान पूर्वक पढ़े।

 

iti full form in hindi 1 - https://visiontechindia.com/wp-content/uploads/2022/03/ITI-full-form-e1648789164338.jpg

 

अधिकतर विद्यार्थी 10th और 12th पास करने के बाद बहुत ज्यादा चिंतित रहते है, की इसके बाद क्या करे, उन लोगो के लिए आइटीआइ (ITI) एक अच्छा स्कोप हो सकता है।

इसके लिए आज हम आइटीआइ की फुल फॉर्म क्या है, और इसके साथ में आइटीआइ से जुडी सारी जानकारी के बारे में जानेंगे।

विषय सूची- hide

ITI full form in hindi। आईटीआई की फुल फॉर्म हिंदी में।

आइटीआइ का पूरा नाम (industrial tranning institute) है, जिसे हिंदी में औद्योगिक प्रशिछण संस्थान कहा जाता है।

आइटीआइ का कोर्स का करने के लिए 10th पास होना अनिवार्य है, और इसके अंतर्गत ऐसे कई कोर्स सम्मिलित है, जिसे आप निश्चित अवधि में करके इसका सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकते है।

और पढ़े- ऑनलाइन जॉब 715 क्या है,(online job 715) पूरी जानकारी

 

आईटीआई क्या है। what is a iti। ITI full form in hindi।

जैसा हमने ऊपर जाना की आइटीआइ का मतलब औद्योगिक प्रशिछण संस्थान होता है, और आइटीआइ के माध्यम से विद्यार्थियों को प्रशिछण प्रदान करना होता है, और इसका उद्देश्य छात्रो को औद्योगिक छेत्र में आगे बढ़ाना है।

आइटीआइ के अंतर्गत छात्रों को ऐसी ट्रेनिंग दी जाती है, जिसके माध्यम से वह कम उम्र में ही अपने कार्यो में सफल हो सके।

आइटीआइ में क्या होता है। ITI kya hota hai।

आइटीआइ के अंतर्गत कुछ ऐसे कोर्स होते है, जो उद्योग से  सम्बंधित होते है, जिसमे छात्रों को प्रेटीकल के साथ-साथ थिओरी का भी ज्ञान दिया जाता है, और इसके अन्दर कुछ टेक्निकल टूल्स, के बारे में जानकारी दी जाती है।

 

आइटीआइ करने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी-

 

ITI FULL FORM industrial tranning institute
ITI FULL FORM IN HINDI औद्योगिक प्रशिछण संस्थान
AGE LIMIT 15 से 40 वर्ष
ELIGIBILITY 10th में 45% अनिवार्य
COURSE 80+ इंजीनियरिंग तथा 50+ नॉन- इंजीनियरिंग कोर्स
FEES अलग-अलग कोर्स के हिसाब से
OFFICIAL WEBSITE हर स्टेट की अलग-अलग वेबसाइट

इनके बारे में भी पढ़े- 

ITI पाठ्यक्रम की अवधि कितनी होती है।

आइटीआइ का मुख्य उद्देश्य प्रवेश लेने वाले सभी उम्मीदवारों को उद्योग हेतु प्रशिक्षित करना है। इस प्रशिक्षण के दौरान उन्हें काम के लिए तैयार करना है।

प्रत्येक ट्रेड एक कौशल विकास एवं विशेष क्षेत्र पर आधारित होता है। आइटीआइ पाठ्यक्रमों की समय सीमा -6 माह से लेकर 2 वर्ष तक होती है। पाठ्यक्रम की अवधि आपके द्वारा सेलेक्ट की गयी ट्रेड पर निर्भर करती है।

 

आईटीआई सर्टिफिकेट के प्रकार-

NCVT- National Council for Vocational Training:- NCVT के अंतर्गत वह कॉलेज आते है, जिसकी मान्यता केंद्र सरकार द्वारा दी जाती है।

तथा इस NCVT सर्टिफिकेट के द्वारा आप सभी को विदेशो में भी जॉब आसानी से मिल सकती है, क्योकि यह एक national सर्टिफिकेट होता है, जिसकी विदेशो में मांग बहुत अधिक होती है।

SCVT- State Council of Vocational Training:- SCVT की मान्यता भी राज्य सरकार द्वारा दी जाती है, लेकिन भारत के अन्दर SCVT की ज्यादा वैल्यू नही होती है।

यदि आप आइटीआइ का कोर्स करना चाहते है तो सबसे पहले यह पता लगाये की जिस कॉलेज में आप एडमिशन ले रहे है, उसे मान्यता किसके द्वारा मिली हुयी है, जहा तक हो सके NCVT मान्यता प्राप्त वाले कॉलेज से आप आईटीआई का प्रशिछण ले।

 

ITI में क्या सिखाया पढाया जाता है?

ITI में थ्योरी नॉलेज की तुलना में प्रैक्टिकल नॉलेज पर ज्यादा जोर दिया जाता है। आइटीआइ कोर्स का मुख्य लक्ष्य होता है, की विद्यार्थियों को काम करने के लायक बनाना, तथा इसके लिए उन्हें ऐसी शिक्षा दी जाती है।

ताकि वे Industry को मैनेज कर सकें. ITI के अन्दर मुख्य रूप से छात्रों को थ्योरी, ड्रोविंग, गणित, पढाया जाता है, तथा प्रेटिकल (लैब) पर अधिक जोर दिया जाता है।

आईटीआई कोर्स के प्रकार। (Types of ITI full form in hindi Courses)

मुख्य रूप से आइटीआइ में प्रवेश लेने वाले छात्रों के लिए ITI पाठ्यक्रम को दो भागों में विभाजित गया है। दोनों भागों का विवरण नीचे दिया गया है।

  • इंजीनियरिंग व्यापार (Engineering trades)- यह ट्रेड मुख्य तौर पर तकनीकी इंजिनियर ट्रेड पर आधारित है।
  • इस ट्रेड के अनुसार उम्मीदवार विज्ञान ,गणित ,और प्रौद्योगिकी अवधारणाओं पर फोकस करके शिछा ग्रहण करते है।
  • गैर-इंजीनियरिंग ट्रेड (Non-engineering trades)- यह पाठ्यक्रम तकीनीकी डिग्री से संबंधित नहीं होते है।
  • इसके अंतर्गत उम्मीदवारों को भाषाओँ ,सॉफ्ट स्किल्स और अन्य क्षेत्र के विशेष कौशल और विशेषज्ञता पर ध्यान केंद्रित करना होता है।

ITI full form in hindi के अंतर्गत कितने प्रकार के कोर्स होते है।

आइटीआइ के अंतर्गत दो तरह के कोर्स होते है, एक इंजीनियरिग तथा दूसरा नॉन इंजीनियरिग जिसे आप निचे दिए गए समय के अनुसार करके सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकते है।

 

आईये जानते है, आइटीआइ के मुख्य कोर्सेस के नाम –

कोर्स का नाम

अवधि (समय)

Tool & Die Maker

3 वर्ष

Draughtsman (Mechanical)

2 वर्ष

Diesel Mechanic

1 वर्ष

Draughtsman

2 वर्ष

Pump Operator

1 वर्ष

Fitter

2 वर्ष

Motor Driving-cum-Mechanic

1 वर्ष

Turner

2 वर्ष

Dress Making

1 वर्ष

Manufacture Foot Wear

1 वर्ष

Information Technology & E.S.M.

2 वर्ष

Secretarial Practice

1 वर्ष

Machinist

1 वर्ष

Hair & Skin Care

1 वर्ष

Refrigeration

2 वर्ष

Fruit & Vegetable Processing

1 वर्ष

Mech. Instrument

2 वर्ष

Bleaching & Dyeing Calico Print

1 वर्ष

Electrician

2 वर्ष

Letter Press Machine Mender

1 वर्ष

Commercial Art

1 वर्ष

Leather Goods Maker

1 वर्ष

Mechanic Motor Vehicle

2 वर्ष

Hand Compositor

1 वर्ष

Mechanic Radio & T.V.

2 वर्ष

Mechanic Electronics

2 वर्ष

Surveyor

2 वर्ष

Foundry Man

1 वर्ष

Sheet Metal Worker

1 वर्ष

इनके बारे में भी जाने- 

आइटीआइ में एडमिशन के लिए मुख्य दस्तावेज-

  • आठवीं/दसवीं/बारहवीं की Marks Sheet और Certificate
  • Entrance Certificate (यदि आपने Entrance Exam पास की है)
  • आय प्रमाण पत्र।
  • जाती प्रमाण पत्र।
  • निवास प्रमाण पत्र।
  • Migration सर्टिफिकेट।
  • Identity Proof जैसे – वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि।
  • निर्देशानुसार अन्य संबंधित दस्तावेज।

ITI Official Website । आइटीआइ ऑफिसियल वेबसाइट।

 

मिजोरम तमिलनाडु
जम्मू और कश्मीर पश्चिम बंगाल
महाराष्ट्र पंजाब
तेलंगाना मणिपुर
बिहार   हरियाणा
उत्तर प्रदेश (यूपी)  हिमाचल प्रदेश
मध्य प्रदेश (एमपी) राजस्थान
झारखंड   छत्तीसगढ
उत्तराखंड असम
गुजरात दिल्ली

ITI करने के बाद जॉब कैसे पाए?

आज के समय में कॉम्पटीशन बहुत ज्यादा बढ़ गया है, जिसके चलते ITI करने के बाद भी जॉब आसानी से नही मिलाती है, वैसे तो भारत के अन्दर ITI करने वालो की काफी मांग है, जिसमे छात्र सरकारी व प्राइवेट दोनों छेत्रो में काम कर सकते है।

ITI करने के बाद सबसे पहले अप्रेंटीशिप करने की जरुरत होती है, जिससे आपका थ्योरी का नॉलेज और भी बढ़ सके।

इसके लिए निचे कुछ जॉब अलर्ट वेबसाइट के नाम दिए जा रहे है जिसकी सहायता से आपको आसानी से जॉब मिल जायेगी।

  • Monster India
  • TimesJobs
  • Naukri
  • Indeed
  • Jooble
  • Shine

आईटीआई करने में कितना खर्चा आता है।

आइटीआइ का कोर्स करने में कितना खर्चा आएगा, यह पूरी तरह से कॉलेज पर निर्भर रहता है, यदि आपके अच्छे नम्बर आते है, और आपका एडमिशन सरकारी कॉलेज में हो जाता है।

तो आपके कम पैसे लगते है, और वही आप प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेते है तो आपको पुरे कोर्स से 25 से 30,000 हजार रुपये देने पड़ सकते है।

 

ITI-full-form

 

ITI करने के बाद वेतन कितना मिलता है।

यदि ITI करने के बाद सैलरी की बात करे, तो नए लोगो को किसी भी जॉब पोस्टिंग के शुरुवाती दिनों में 10 से 15 हजार रुपये जाते है।

यह सैलरी आपको अप्रेंटीशिप के दौरान दी जाती है, और ऐसे कई ट्रेड़ जिसके अन्दर आपको 15000 रुपये से अधिक सैलरी दी जाती है, जैसे-जैसे आपके अन्दर अनुभव होता जाएगा, वैसे आपकी सैलरी बढती जायेगी।

 

आइटीआइ में एडमिशन कैसे ले।

आइटीआइ में एडमिशन लेने के लिए मुख्य रूप से दो तरीके है, पहला ऑनलाइन और दूसरा ऑफलाइन आईये विस्तार से जानते है-

ऑनलाइन एडमिशन- ऑनलाइन एडमिशन में विद्यार्थी को आइटीआइ की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होता है।

जिसके बाद एक निर्धारित तारीख पर इंट्रेंस एग्जाम देना होता है, यदि छात्र यह इंट्रेंस एग्जाम पास कर लेता है। तो उसे Merit List सरकार द्वारा निर्धारित अपनी पसंद के Institute में ITI Courses के लिए Admission दिया जा सकता है।

ऑफलाइन एडमिशन- ऑफलाइन एडमिशन के अंतर्गत अधिकतर प्राइवेट कॉलेज आते है, जिसके अन्दर छात्रों को एडमिशन दिया जाता है।

इसके अन्दर छात्रों को फीस अधिक देनी पड़ती है, लेकिन सरकारी आइटीआइ कॉलेज में फीस बहुत कम होती है।

इनके बारे में भी जाने- 

ITI करने के फायदे। (Benefits of ITI in Hindi)

(ITI full form in hindi) कोर्स करने के निम्नलिखित फायदे के बारे में निचे जानकारी दी गयी है।

  • आइटीआइ के फुल फॉर्म (industrial tranning institute)  से ही समझ में आता है, की इसके अन्दर प्रेटिकल ज्यादा होता है, जिसके छात्रों को समझने में काफी मद्दद मिलती है।
  • आइटीआइ का कोर्स 8th, 10th पास होने के बाद कर सकते है।
  • आइटीआइ करने के लिए शुरू में किसी तरह के टेक्निकल नॉलेज की आवश्यकता नही होती है।
  • आइटीआइ करने के बाद सरकारी और बड़ी-बड़ी कंपनियों में आसानी से जॉब लग जाती है।
  • कम समय में जॉब लगने के कारण कुछ साल बाद कंपनी के द्वारा अच्छा पॅकेज मिलने लगता है।
  • आइटीआइ के साथ-साथ आप दुसरे एग्जाम की तैयारी भी कर सकते है।
  • आइटीआइ के अन्दर सब्जेक्ट कम होते है।
  • सरकारी कॉलेज में एडमिशन लेने से फीस काफी कम देने पड़ते है।

FAQ by ITI full form in Hindi?

ITI का फुल फॉर्म क्या है?

Ans- ITI का फुल फॉर्म (industrial tranning institute) है।

आइटीआइ को हिंदी में क्या कहते है?

Ans- ITI को हिंदी औद्योगिक प्रशिछण संस्थान कहते है।

आइटीआइ करने के लिए नम्बर चाहिए?

Ans- आइटीआइ करने के मिनिमम 45% नम्बर चाहिए

भारत में आइटीआइ कितने प्रकार होती है?

Ans- भारत में आइटीआइ दो प्रकार के होते है एक सरकारी और दूसरी प्राइवेट. आइटीआइ हर राज्य में होती है. जबकि पूरे देश में कुल 11,964 आइटीआइ सेंटर है जिसमें से 2284 सरकारी और 9680 प्राइवेट सेंटर है।

ITI क्यों करनी चाहिए?

Ans- आइटीआइ करने से कम उम्र में जॉब लग जाती है, और आइटीआइ करने से सरकारी जॉब के लिए आवेदन कर सकते है।

 

अंतिम शब्द- 

आज हमने अपने इस आर्टिकल में आप लोगो को ITI full form in hindi के बारे में जानकारी दी है, मुझे आशा है की आपको लोगो को आइटीआइ क्या है? पूरी तरह से समझ में गया होगा।

4.9/5 - (136 votes)

Share this content

Pawan Yadav

मेरा नाम पवन है, मै visiontechindia.com वेबसाइट का फाउन्डर हूँ, मेरे द्वारा बनायीं गयी यह एक ऐसी हिंदी वेबसाइट है, जहाँ पर बिज़नेस आईडिया, टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, GK और ऑनलाइन पैसे कमाने से सम्बंधित जानकारी शेयर की जाती हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!