SDM ka full form क्या है। sdm कैसे बने पूरी जानकारी हिंदी में।

SDM ka full form:- हेल्लो दोस्तों कैसे है,आप लोग मुझे आशा है, की आप लोग अच्छे ही होंगे, मुझे कुछ कमेंट आये कि सर SDM ka full form क्या होता है?, और sdm कैसे बने इसके बारे में जानकारी दीजिये।

इसलिए आज मै इस आर्टिकल के माध्यम SDM ka full form के साथ-साथ और भी कई सवालों के जावाब इस पोस्ट के माध्यम से दूंगा।

भारत देश एक ऐसा देश है, जहाँ पर हर एक जिले में उप प्रभागीय न्यायधीश की जरूर होती है, जिसको नजर में रखते हुए हर एक जिले में SDM अधिकारी की नियुक्ति की जाती है।

एक एसडीएम अधिकारी का पद बहुत ही सम्मानजनक पद माना जाता है, क्योकि इनके द्वारा अपने जिले की जमीनी कार्यो और व्यापार की निगरानी करना होता है।

यदि आप भी एक SDM बनना चाहते है, तो SDM ka full form के साथ आपको कई प्रकार की जानकारी का होना आवश्यक है, और मै इसी के बारे में इस पोस्ट में स्टेप बाई स्टेप जानकारी देने वाला हूँ, आज के इस आर्टिकल में हम SDM Full Form, एसडीएम कौन होता है?

SDM Officer kaise bane, SDM अधिकारी बनने के लिए क्या करे, एसडीएम की कितनी वेतन होती है, तथा एक SDM को क्या-क्या सुविधाए दी जाती है, इन सभी सवालों का विस्तारपूर्वक जवाब देंगे, इसलिए आप सभी से निवेदन है।

आप इस पोस्ट पर विजिट किये है, तो इस लेख पूरा अंत तक जरुर पढ़े, नही तो आप   SDM ka full form तथा SDM एसडीएम से सम्बंधित सभी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी मिस कर जायेंगे।

SDM ka full form क्या होता है। Full Form of SDM in Hindi।

भारत में एक SDM ka full form – Sub Divisional Magistrate होता है, जिसे हिंदी में अर्थ उप प्रभागीय न्यायाधीश होता है।

हर एक राज्य में कई सारे जिले होते है, और हर एक जिले में एक एसडीएम SDM की पोस्टिंग होती है, जिसे बहुत से अधिकार (power) दिए जाते है, जिसके बारे में निचे जानकारी देंगे।

sdm-ka-full-form

इनके बारे में भी पढ़े- 

SDM- एसडीएम ऑफिसर कौन होता है।

हमने ऊपर भी इसके बारे में चर्चा की है, कि एक जिले का सबसे पावरफुल ऑफिसर DM डीएम होता है, जो पुरे जिले का मालिक होता है।

तथा उसे बहुत से अधिकार प्राप्त होते है, और इसी प्रकार डीएम के निचे SDM एसडीएम होता है, जिसे डिविशनल के तौर पर इसी तरह के सेम अधिकार प्राप्त होते है, भारत में पोस्टेड एक एसडीएम की निगरानी में कई कार्य किये जाते है। 

जैसे- जमीन की देखरेख, चुनाव सम्बंधित व्यवस्था करना, लायसेंस जारी करना, हिंसा रोकना, इत्यादि इसी तरह के कार्य एक एसडीएम द्वारा किये जाते है।

जिसके लिए उन्हें अच्छा वेतन भी दिया है, तथा सरकार के द्वारा अन्य कई सारी सरकारी सुविधा दी जाती है, जिसके बारे में निचे जानकारी दी गयी है, एसडीएम के बारे में और जानकारी के लिए इस पोस्ट के आखिरी तक बने रहे।

एसडीएम के प्रमोशन-

एक एसडीएम के प्रमोशन के लिए सरकारी द्वारा कुछ नियम बनाये गए है, जब एक एसडीएम अपने पद पर ज्वाइन होता है, तो उसके लगभग चार वर्ष के बाद उसका प्रमोशन करके उसे ADM एडिएम की पोस्ट पर तैनात कर दिया जाता है।

ADM पद पर प्रमोशन के कुछ वर्षो के उपरान्त इनका प्रमोशन DM डिएम के पद पर कर दिया जाता है।

इसके बाद इन्हें किसी भी मंत्रालय में  (Additional Secretary) एडिशनल सेक्रेटरी के पद पर तैनात कर दिया जाता है, तथा इसके कुछ सालो के बाद इन्हें ज्वाइन सेक्रेटरी के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है।

एसडीएम बनने के लिए योग्यता-

भारत के अन्दर एक एसडीएम की पोस्ट के लिए आवेदन करने से पूर्व कुछ बातो का ध्यान रखना आवश्यक है, जिसके बारे में निचे जानकारी दी गयी है।

SDM एसडीएम बनने के लिए कंडिडेट का ग्रेजुएशन होना अनिवार्य है, कंडीडेड किसी भी विषय से ग्रेजुएशन किया हुआ होना चाहिए, जैसे- BBA, B.COM, B.SC, B.TECH, BCA, आदि।

SDM एसडीएम बनने के लिए आयु सीमा।

यदि आपका भी एक एसडीएम बनने का सपना है, तो आपको यह जान लेना आवश्यक है, आप कितने वर्षो तक तैयारी कर सकते है, जिसके लिए यह जानना आवश्यक है, कि एक कंडिडेट कितने वर्षो तक एसडीएम पद के लिए आवेदन कर सकता है।

  • एक सामान्य वर्ग के कंडीडेट के लिए आयु सीमा 21 वर्ष से लेकर 42 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • एक ओबीसी कंडीडेट के लिए 3 वर्षो की छुट दी जाती है, जिससे .उनकी आयु सीमा 21 वर्ष से लेकर 45 वर्ष तक हो जाती है।
  • वही एसटी/एससी के लिए 5 वर्षो की छुट दी जाती है, जिससे उनकी आयु 21 वर्ष से लेकर 47 वर्ष के बीच हो जाती है।
  • इसके बाद PWD के लिए आयु सीमा 21 वर्ष से 55 वर्ष तक होती है।

SDM एसडीएम ऑफिसर कैसे बने?

यदि आपका भी एक एसडीएम बनने का सपना है, तो आपको एक समझ लेनी चाहिए की किसी भी एग्जाम को पास करना इनता आसान नही होता है, इसके लिए आपको दिन-रात एक करके कड़ी मेहनत करनी पड़ती है, आईये जानते है, एसडीएम कैसे बने, इसके बारे पूरी जानकारी प्राप्त करते है- 

 

SDM के पदों पर भर्ती संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) और राज्यों के लोक सेवा आयोग के द्वारा की जाती है अर्थात एसडीएम बनने के लिए आपको UPSC या PCS दोनों में से किसी एक परीक्षा में सफल होना पड़ेगा।

ये दोनों परीक्षाएं तीन भागो में आयोजित होती है जिनमे से पहला और दूसरा भाग लिखित रूप में होता है और तीसरा भाग साक्षात्कार (Interview) का होता है।

 

लिखित परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के बाद आपको साक्षात्कार में भी सफल होना पढ़ता है।दोस्तों हर राज्य का अपना एक आयोग होता है।

जैसे उत्तर प्रदेश के लिए UPPSC इस एग्जाम को करवाती है, वही यदि आप उत्तराखंड राज्य में है, तो इस एग्जाम को UKPSC करवाती है, इसी तरह से अलग-अलग राज्य के द्वारा भर्ती की प्रक्रिया की जाती है।

 

इसी तरह हर एक राज्य सिविल सेवा परीक्षा को आयोजित करता है,  तथा राज्य के सिविल सेवा परीक्षा का सबसे बड़ा पद SDM का होता है जो भी छात्र इस परीक्षा में सफल होता है उसे सीधे SDM के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है।

 

वही जो छात्र UPSC की परीक्षा में  सफलता प्राप्त करते है वो एक IAS ऑफिसर बनते है और आईएएस ऑफिसर को ट्रेनिंग के दौरान जो पहली पोस्टिंग मिलती है वो एक SDM की होती है। 

 

SDM एसडीएम का वेतन व अन्य सरकारी सुविधाए

एक एसडीएम का वेतन 58000 से लेकर 1 लाख रुपये तक होता है, जो कुछ कम या ज्यादा हो सकता है, यह वेतन अलग-अलग राज्य पर निर्भर करता है।

क्योकि एसडीएम एक बहुत पावरफुल पद होता है, इसी के साथ में एक (SDM) एसडीएम को अन्य कई सारी सरकारी सुविधाये प्रदान की जाती है, जिसके बारे में निचे जानकारी दी गयी है।

  • एक सरकारी SDM एसडीएम को सरकार की तरफ से एक वाहन और एक सरकारी ड्राईवर मिलता है।
  • रहने के लिए एक सरकारी घर दिया जाता है।
  • घर की रखवाली के लिए सुरक्षा गार्ड की व्यवस्था दी जाती है।
  • घरो में काम करने के लिए नौकर दिए जाते है।
  • बागो या पेड़ पौधों में पानी के लिए माली की व्यवस्था दी जाती है।
  • सभी प्रकार के बिल जैसे मोबाइल बिल, पानी का बिल आदि खर्चे सरकार उठाती है। 
  • इन सभी के अलावा आगे की पढाई के लिए अवकाश भी दिए जाए है।
  • यदि किसी काम से SDM अधिकारी कही बाहर जाता है, तो उसे रहने के लिए अच्छे आवास की व्यवस्था की जाती है।
 

और पढ़े- 

SDM से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न-

  • एसडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है?

    Ans- एसडीएम का फुल फॉर्म “Sub Divisional Magistrate” होता है।

  • एसडीएम का हिंदी अर्थ क्या होता है?

    Ans- एसडीएम का हिंदी अर्थ “उप प्रभागीय न्यायाधीश” होता है।

  • एसडीएम का मोबाइल नम्बर कैसे जाने?

    Ans- आज के समय में इंटरनेट का इस्तेमाल करके कुछ भी किया जा सकता है, आप गूगल पर जाए और अपने जिले का नाम इंटर करके एसडीएम का मोबाइल नम्बर प्राप्त कर सकते है।

  • sub divisional magistrate in hindi का क्या मतलब है?

    Ans- इसका मतलब “उप प्रभागीय न्यायाधीश” होता है, जिसे short form में SDM कहा जाता है।

आखिरी शब्द-

इसके पहले हमने एसआइ का पूरा नाम क्या है? इसके बारे में जानकारी दी थी, लेकिन इस पोस्ट में हमने SDM ka full form क्या होता है?, तथा इसी से सम्बंधित कई प्रकार के सवालो का जवाब इस पोस्ट में दिया है।

जैसे- SDM ka full form, एसडीएम ऑफिसर कैसे बने, एसडीएम की सैलरी, तथा एसडीएम बनने के लिए आयु सीमा कितनी चाहिए? इन सभी सवालों का जवाब काफी सरल व आसान भाषा में दिया है।

यदि आपके मन में SDM ka full form या इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल है, तो निचे कमेंट करके अवश्य पूछे, तथा एसडीएम से सम्बंधित जानकारी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।

और ऐसी ही शानदार इन्फोर्मेशन के लिए हमारे ब्लॉग www.visiontechindia.com को बूकमार्क करना ना भूले, क्योकि यहाँ पर एजुकेशन, बिज़नेस आईडिया, टेक्नोलॉजी, GK तथा ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए? के बारे में जानकारी शेयर की जाती है।

4.5/5 - (128 votes)

Share this content

Pawan Yadav

मेरा नाम पवन है, मै visiontechindia.com वेबसाइट का फाउन्डर हूँ, मेरे द्वारा बनायीं गयी यह एक ऐसी हिंदी वेबसाइट है, जहाँ पर बिज़नेस आईडिया, टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, GK और ऑनलाइन पैसे कमाने से सम्बंधित जानकारी शेयर की जाती हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!