SDO ka full form- एसडीओ क्या है, SDO कैसे बने?

sdo ka full form- दोस्तों आपने SDO के बारे में कभी न कभी तो सुना होगा, आज हम sdo ka full form क्या है, तथा sdo कैसे बने? इसके बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देने वाला हूँ।

आज की लेख में हम sdo ka full form, SDO कैसे बने, sdo क्या होता है? sdo के लिए क्या क्वालिफिकेशन चाहिए, Age लिमिट कितनी होनी चाहिए, और एक sdo की सैलरी कितनी होती होती है, इसके बारे में हम आप सभी को जानकारी देंगे।

SDO-ka-full-form

SDO ka full form क्या है

SDO ka full form- sub divisional officer होता हैं इसे हिंदी में अनुविभागीय अधिकारी या उप मण्डल अधिकारी कहते है, इस सर्विस को प्राप्त करने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है, SDO का पद एक डीविजिनल (Divisional) लेवल का पद होता है, और लगभग हर सरकारी विभाग में में sdo की नियुक्ति की जाती है, SDO एक प्रभारी लेवक का अधिकारी होता है, जिसे विभिन्न प्रकार के कार्यो को पूरा करने के लिए नियुक्त किया जाता है।

क्या आप जानते है, हमारे देश में लगभग हर एक हिस्से को छोटे-छोटे जिलो में विभाजित किया गया है, और इन्ही जिलो की देख रेख के लिए प्रत्येक जिले में सरकारी sdo की नियुक्ति की जाती है।

एसडीओ (SDO) क्या होता है?

एसडीओ (SDO) एक सरकारी ऑफिसर होता है, जो देश के लगभग हर एक राज्य में हर बिभाग में तैनात होता है, जैसे- बिजली विभाग, पुलिस विभाग, सिचाई विभाग आदि. भारत में हर एक राज्य के जिले में SDO को पोस्टिंग की जाती है, जिसकी जिम्मेदारी सरकारी सुचारू प्रणाली की देख रेख करना होता है।

SDO ऑफिस के अधिकारी राज्य सरकार के अधीन काम करते है, क्योकि इन अधिकारियों का चयन और नियुक्ति भी राज्य सरकार के द्वारा किया जाता है।

एसडीओ (SDO) कैसे बने?

एसडीओ ऑफिसर का चयन दो तरह से किया जाता है, पहले तरीके में एक SDO ऑफिस में काम कर रहे छोटे अधिकारीयों में से चयन किया जाता है, पहले इनके काम को देखा जाता है, जो अधिकारी अच्छा काम करता है, उसे SDO बना दीया जाता है दुसरे तरीके में राज्य सरकार के द्वारा आयोजित PCS परीछा को देकर आप सीधे एसडीओ ऑफिसर बन सकते है।

एसडीओ (SDO) के कार्य क्या है?

यदि एसडीओ की बात करे तो एक SDO अधिकारी अपने विभाग का एक प्रमुख अधिकारी होता है, और इनके अन्य छोटे अधिकारी इनके अन्दर काम करते है, और तहसीलदारो और अन्य विभिन्न अधिकारियो की सहायता से अपने छेत्र के सुधार कार्य की देखरेख करते है, और इन सबके अतिरिक्त SDO जनता की शिकायतों को भी सुनता है।

एसडीओ (SDO) बनने के लिए क्वालिफिकेशन

भारत में किसी भी सिभाग में एसडीओ बनने के लिए आपको किसी भी कॉलेज से ग्रेजुएशन पास होना अनिवार्य है, क्योकि ग्रेजुएशन की बेस पर इस फॉर्म को अप्लाई कर सकते है, और इस विभाग में डिप्लोमा किये हुए छात्र आवेदन नही कर सकते है, लेकिन आप ग्रेजुएशन के लास्ट इयर में है, तो SDO को फॉर्म भर सकते है।

SDO बनने के लिए आपको केवल ग्रेजुएशन में किसी भी स्ट्रीम से पास होना अनिवार्य है, जैसे- BA, B.sc, B.COM BBA, BCA, इत्यादि, और किसी भी राज्य के PCS का फॉर्म भरने के लिए आपको वहा का स्थायी निवासी होना जरुरी नही है।

जैसे- आप राज्शान के निवासी है, तो आप उत्तर प्रदेश PCS का फॉर्म भर सकते है, यदि आप भारत में किसी भी राज्य से SDO बनना चाहते है, तो आपको केवल PCS का एग्जाम पास करना अनिवार्य है।

एसडीओ (SDO) बनने के लिए (Age limit)

यदि आप SDO बनने के लिए उत्तर प्रदेश में PCS का फॉर्म भरते है, तो इसकी Age लिमिट है, 21 साल, और मक्सिमम Age लिमिट है, 40 साल, यह Age हर तरह के स्टूडेंट के लिए है, इससे कम उम्र के लोग UP- PCS का फॉर्म नही भर सकते है।

इसमें एक बात का ध्यान रखना आवश्यक है, की जो Age limit में छुट दी गयी है, वह केवल उत्तर प्रदेश के निवासियों के लिए है, दुसरे स्टेट के निवासी के लिए अलग Age लिमिट दी गयी होती है, इसके लिए फॉर्म की डिस्क्रिप्शन को चेक करे।

निचे कुछ केटेगरी के हिसाब से चार्ट बनाये गए है, जिसे देखकर आप समझ सकते है, कि एसडीओ (SDO) बनने के लिए किस केटेगरी के लोगो को कितना छुट मिलता है।

4.4/5 - (131 votes)

Share this content

Leave a Comment

error: Content is protected !!