Adidas kaha ki company hai। 2023 में Adidas का मालिक कौन है।

क्या किसी को पता है, Adidas kaha ki company hai और Adidas का मालिक कौन है, यदि नही तो बने रहिये इस लेख के अंत तक क्योकि आज के इस लेख में हम Adidas का मालिक कौन है, और Adidas कहां की कंपनी है, इसके बारे में विस्तार से जानकारी देंगे।

आज के समय की एडिडास कंपनी स्पोर्ट के नाम से भी जानी जाती है, क्योकि यह खेल के जूते के अलावा जेसे घड़ी, शर्ट, बैग एवं खेल के कपड़े से संबधित समान का निर्माण करती है। और यह आज के समय में यूरोप की सबसे बड़ी कंपनी है, आईये अब Adidas कहां की कंपनी है, इसके बारे में जानते है।

adidas-kaha-ki-company-hai

Adidas kaha ki company hai। Adidas किस देश की कंपनी है।

Adidas एक जर्मनी की कंपनी है, और वर्तमान में इसका मुख्यालय जर्मनी के हरजोनाउराच में स्थित है। एडिडास की स्थापना 1948 में एडोल्फ “एडी” डास्लर के द्वारा की गयी थी।

इसकी स्थापना गेब्रदर डास्लर शूफैब्रिक और उनके बड़े भाई रुडोल्फ के बीच साल कुछ समय के बाद बटवारा हो गया, तब 18 अगस्त 1949 को अडोल्फ ने Adidas को स्थापित किया। इनके बारे में भी पढ़े- 

Adidas का मालिक कौन है।

Adidas के मालिक एडॉल्फ डास्लर है, जिन्होंने कंपनी की स्थापना भी की है, और इनका जन्म जर्मनी के हर्ज़ोजेनौराच नमक शहर में हुआ था, तथा इनके द्वारा ही adidas company की स्थापना की गयी थी।

Adidas company  के (CEO) सीईओ कौन है।

वर्तमान में Adidas कंपनी के सीईओ kasper rorsted है।

Adidas कौन-कौन से प्रोडक्ट बनाती है।

अभी के समय में बहुत से लोग सोचते है, कि adidas कोई इलेक्ट्रिक सामान बनाती है, लेकिन आपको बता है, कि यह बहुत हद तक सही नही है, आईये जानते है, Adidas कंपनी कौन-कौन से प्रोडक्ट बनाती है।

Adidas पुरुषों के सामान में जूते, शर्ट, शॉर्ट्स, पैंट, आउटवियर, बेस लेयर और चश्मे (आईवियर) शामिल है। और  महिलाओं के सामान में जूते, शर्ट, शॉर्ट्स, स्कर्ट, पैंट, आउटवियर, बेस लेयर और आईवियर इत्यादि सामान बनाती है।

Adidas कंपनी का इतिहास-

एडिडास की स्थापना 1948 में एडोल्फ “एडी” डास्लर के द्वारा की गयी थी।  एडोल्फ “एडी” डास्लर ने प्रथम विश्व युद्ध से लौटने के बाद हरजोनाउराच, बावरिया शहर में अपनी मां की रसोई में अपने खुद के खेल के जूते बनाना शुरू किया।

1924 में, उनके भाई रुडोल्फ “रूडी” डास्लर भी उनके एस व्यापार में शामिल हो गए, जो Gebrüder Dassler Schuhfabrik (डास्लर ब्रदर्स शू फैक्ट्री) बन गयी और फिर इस कंपनी ने अपनी एक अलग पहचान बनायीं।

इस दोनों भाई की जोड़ी ने अपनी माँ की लॉन्ड्री में अपना जूते बनाने का कार्य शुरू किया था, लेकिन उस समय शहर में बिजली की आपूर्ति भरोसेमंद स्थिति में नहीं थी और इन भाइयों को कभी कभी अपने उपकरणों को चलाने के लिए एक स्टेशनरी साइकिल से पैडल की पावर का इस्तेमाल करना पड़ता था।

1936 के ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक में एडी डास्लर दुनिया के पहले मोटर मार्ग की यात्रा करते हुए ओलम्पिक विलेज तक आये. वे अपने साथ स्पाइकों से भरा एक सूटकेस भी लाये थे।

उन्होंने अमेरिकी धावक जेसे ओवेन्स को इनका इस्तेमाल करने के लिए राज़ी कर लिया, यह एक अफ़्रीकी अमेरिकी की पहली स्पोंसरशिप थी। दौड़ में ओवेन्स ने चार स्वर्ण पदक जीते, इसके बाद दुनिया के सबसे प्रसिद्द खिलाडियों के बीच डास्लर के जूतों की प्रतिष्ठा बहुत बढ़ गयी।

दोनों भाइयों की डेस्क पर दुनिया भर से पत्र आने लगे और सभी अन्य राष्ट्रीय टीमों के प्रशिक्षक उनके जूतों में रूचि लेने लगे.कारोबार तेजी से आगे बढ़ा और डास्लर बंधु द्वितीय विश्व युद्ध से पहले तक प्रति वर्ष 200,000 जोड़ी जूते बेचते थे।

और पढ़े- 

 

Adidas कंपनी से सम्बंधित मुख्य प्रश्न-

आज हमने क्या सिखा-

आज के इस लेख में हमने Adidas kaha ki company hai और Adidas का मालिक कौन है, इस टॉपिक के बारे में आप लोगो को जानकारी दी है।

यदि आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने सोशल मिडिया व अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करे, ताकि उन्हें भी Adidas kaha ki company hai और Adidas का मालिक कौन है, इस प्रश्न के बारे अच्छे से जानकारी हो सके, तथा यह जानकारी आपको कैसी लगी कृपया कमेंट करके जरुर बताये।

नोट- क्या आप लोगो को एजुकेशन, टेक्नोलॉजी, बिज़नेस आईडियाऑनलाइन कैसे कमाए इन सभी विषयो से सम्बंधित लेख पढना पसंद है, तो हमारे ब्लॉग www.visiontechindia.com को बुकमार्क करना ना भूले, क्योकि यंहा पर इन्ही टॉपिक से सम्बंधित जानकारियाँ शेयर की जाती है।

4.4/5 - (54 votes)

Share this content

Pawan Yadav

मेरा नाम पवन है, मै visiontechindia.com वेबसाइट का फाउन्डर हूँ, मेरे द्वारा बनायीं गयी यह एक ऐसी हिंदी वेबसाइट है, जहाँ पर बिज़नेस आईडिया, टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, GK और ऑनलाइन पैसे कमाने से सम्बंधित जानकारी शेयर की जाती हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!